1954 की पुरानी भूमिका : आगरा बाजार
हबीब तनवीर

नाज उठाने में जंफाएँ तो उठाएँ लेकिन
लुत्फ भी ऐसा उठाया है कि जी जाने है। -नाजीर

अत्हर परवो का टेलीफोन आया कि 14 मार्च को जामिया मिल्लिया में अंजुमन तरक्की पसंद मसन्नेफीन जामिया मिल्लिया की तरफ से यौमे नजीर मनाया जा रहा है, क्या ही अच्छा हो कि मैं इस सिलसिले में नजीर पर एक ड्रामा तैयार करवा दूं।
नजीर के कलाम से दिलचस्पी तो मुद्दत से रही है, मगर नजीर पर ड्रामा लिखने का कभी ख्याल न आया था। 'इंशा' के बारे में अलबत्ता सोचा करता था कि उर्दू के इस बाकमाल मगर नामुराद शाएर के कलाम और जिंदगी पर एक हुत रंगीन ट्रेजेडी लिखी जा सकती है।
नजीर की नज्मों को जरा गौर से देखा तो हमारी मुआशरत की बहुत-सी तरसवीरें निगाह के सामने खिंच आई जिनकी रंगीनी 'इंशा' क्या उर्दू के बड़े से बड़े शायर के कलाम को फीका कर देती है। उसकी नज्मों के आहंग में रजाइयत और अफादियत की गूंज सुनाई दी और मैं इस ख्याल से फड़क गया कि नजीर की आवाज उर्दू के हर शायर से अलग है, मगर इंसानियत की आवाज है। और ये हमागीरी किसी और को नसीब न हुई।
नजीर से मुताल्लिक जितनी किताबें मिल सकती थीं वो किताबें संभालीं और एक गोशे में बैठ गया। मुताले के दौरान नजीर के कलाम से मेरी दिलचस्पी तो जरूर बढ़ती चली गई लेकिन साथ ही ड्रामा लिखने के सिलसिले में मेरी उलझनें भी बढ़ गई। मैं ड्रामे के लिए कशमकश () की तलाश में था, नजीर के हालाते जिंदगी मालूम कर रहा था। और उनके हालात की दसदीक व तहकीक के लिए सनदें ढूंढ रहा था कि मुझे यकायक उर्दू शाइरी की तारीख का सबसे बड़ा ड्रामा मिल गया।
आम तौर से ये माना जाता है कि 'मीर' और 'गालिब' के जमानों के दरमियान जो दौर गुजरा है उसने कोई ऐसा शायर पैदा न किया जो 'मीर' और 'गालिब' का हम पल्ला हो। 'गालिब' के दौर में शोरा अपनी रवायतों को याद करते तो एक आवाज होकर बस यही कहते कि - ''सुनते हैं अगले जमाने में कोई 'मीर' भी था।'' 'गालिब' के बाद निगाह सीधी 'इकबाल' के साथ कुछ 'हाली' की याद ताजा हो जाती है। ये हस्तियां हमारी शाइरी की तारीख में संगे-मील की हैसियत रखती हैं जिनकी शख्सियत हमारी सारी तवाोोह जज्ब कर लेती है। हालांकि हकीकत ये है कि 'हाली', 'इकबाल' और 'इकबाल' के बाद 'जोश' और जदीद शोरा का कलाम सबसे ज्यादा उर्दू के उस फकीर शाएर का मरहूने-मिन्नत है, जो हमारे अदब ने 'मीर' के बाद और 'गालिब' से पहले पैदा किया और जिसका जिक्र उर्दू अदब की तारीख में नहीं मिलता। और अगर मिलता है तो यूं कि जैसे लिखने वाला 'नजीर' का जिक्र करके उसकी जात पर बहुत बड़ा एहसान कर रहा है।
गौर से देखा जाए तो नजीर के कलाम और अंदाजे-बयान में आज भी इतना तनौव्वो और इतनीगुंजाइश है कि उससे जदीद शाइरी बहुत कुछसीख सकती है। हमारी शाइरी पर हैयत और मौजू के हजार इनक्लाबात के बावजूद आज तक गजल का बहुत गहरा असर पाया जाता है, और हमारी उर्दू गजल की फिजा ज्यादातर ईरानी मुआशरत की परवरदा है। उन पुरानी तरकीबों और इसतेआरो, उन पिटे हुए लफ्जों और मुहावरों से असरेहाजिर के नगदमें बोझल हैं। मगर अवाम की जबान और हिंदुस्तानी लहजे में बात करने का सलीका आज भी 'नजीर' अकबराबादी से सीखा जा सकता है। 'नजीर' उर्दू का सबसे ज्यादा 'हिंदुस्तानी' शाएर था। जो हैसियत उर्दू नाविलिनिगार रतननाथ शरशार और प्रेमचंद की है वही उर्दू शाइरी में 'नजीर' अकबराबादी की।
'नजीर' लगभग एक सौ साल ज्यादा रहा। उसकी जिंदगी में उसे किसी अदीब ने न पूझा, मरने के कमोबेश ेक सौ साल बाद तक उसका नाम किसी नक्काद की जबान पर न आयाय मगर दो सौ साल तक अवाम ने नजीर को जिंदा रखा। उसके अशआर और उसकी नज्में सीना-ब-सीना आज की नस्ल तक पहुंचा दिए गए, अवाम ने अपनी 'अमानत' की बड़ी जिम्मेदारी से हिफाजत की और हिंदुस्तान के शहर, देहात और कसबे आज भी नजीर के नगमों से गूंज रहे हैं। दरवेश और कदागर शुमाल से लेकर जुनूब तक आज भी नजीर की नज्में गली-कूचों में गाते फिर रहे हैं। ये 'नजीर' की जिंदगी और कलाम का सबसे बड़ा ड्रामा है और हमारी तारीखे-अदब का सबसे दिलचस्प बाब।
ड्रामे के अंदर कलामे-नजीर के उस पहलू को उजागर करना चाहता था और उसी को मैंने अपना मौजू बनाया।
नजीर के हालाते-जिंदगी मालूम करने के सिलसिले में जो दुश्वारियां पेश आई हैं खुद ये दुश्वारियां ड्रामे के हक में रहमत बन गई ड्रामे के मौजू और तकनीक के मुकर्रर करने में उनका भी हाथ है।
नजीर की सवानेह की छानबीन करने के सिलसिले में लिखने वालों ने अपनी जेहानत से काम लेकर बड़ी हाशिया आराइयां की हैं, और जितनी तफसीलात हमें किताबों के जरिए नजीर की जिंदगी के बारे में मालूम हैं उनमें से अकसर शुब्हे से खाली नहीं, यहां तक कि तारीखे-पैदाइश के बारे में भी इख्तेलाफे-राय पाया जाता है। अगर कोई बात हमें वाजेह तौर से मालूम है तो बस ये कि अठारहवीं-उन्नीसवीं सदी के उस अजीमुश्शान शाएर को मोतकद्देमीन ने शाएर ही न माना, मुबतजिल गो कह दिया। लेकिन अवाम ने उसके कलाम को सर आंखों पर उठाया और यही हकीकत हमारे लिए सबसे ज्यादा अहमियत रखती है।
बस तो फिर ड्रामा हो या मोकाला, नजीर के बारे में बात कहनेकी यही है, मगर ड्रामे के ्ंदर ेय बात किस ढंग से कही जाएगी, ये मेरे लिए एक मसला बन गया, इस दुश्वारी का असर ड्रामे के रूप पर बराहे-रास्त पड़ा। मैंने पहले तो ये सोचा था कि नजीर की जिंदगी के मुख्तलिफ पहलू ड्रामे में उजागर करूं या उसकी जिंदगी के किसी एक गोशे पर रौशनी डालूं और एक छोटा-सा नाटक तैयार कर लूं। मगर इसकेबारे में तसदीक से मैं क्या कह सकता था, और अगर कह भी लेता, तो कहने की बात तो ये न थी।
मुझे तो ये कहना था कि नजीर की अवाम दोस्ती ने उसे हयाते-दवाम बख्श दी है और 'नजीर' फकीर और दरवेशों में आज तक मकबूल है। बस 'नजीर' की नज्मों ही में मुझे ड्रामे के लिए एक जदीद तर्ज का फकीरों का 'कोरस' मिल गया जो ड्रामे की बुनियादी कड़ी है।
मैं ये कहना चाहता था कि उस जमाने के पढ़े-लिखे मुतवस्सित तब्के ने नजीर की इनसान की हैसियत से तो तरीफ की, लेकिन बहैसियत शोर उसके नजरअंदाज किया। अलबत्ता छोटे काम करने वाले और कारीगरों में वो मकबूल रहा। बस मुझे कुतुबफरोश और पतंगवाले किरदार मिल गए, जिनके बल पर ड्रामा आगे बढ़ता है और जिनकी दुकानें बाजार के दो अहम तरीन मरकज हैं।
मैंने पढ़ रखा था कि नजीर राह चलते नज्में कहा करते, और छोटे पेशे वाले लोग और भिखारी अक्सर उनसे नज्मों की फरमाइश करते, और वे उनकी बात कभी न टालते। ख्वाह ये अफराना हो या हकीकत, मुझे ये बात बहुत अच्छी लगी, इससे मेरे ड्रामे को बहुत मदद मिल रही थी, और कलामे नजीर पढ़ने के बाद मैं इस पर ईमान लाने के लिए बिल्कुल तैयार था। चुनांचे ककड़ीवाले के किरदार ने ड्रामे के हीरो की शक्ल इख्तेयार कर ली, और यहीं से मुझे अपने प्लॉट की बुनियाद भी मिल गई और ड्रामे का मंजर भी और इसका उनवान भी।
प्लॉट के ऐतबार से ड्रामा अफसानवी हैसियत रखता है, कहानी मनगढ़ंत है, और बहुत छोटी और सीधी-सादी। मैंने जोर इस बात पर दिया है कि 'खेल' को उस रूप में पेश करूं कि जो बुनियादी बात नजीर के बारे में कहना चाहता हूं वो ठीक-ठीक और दिलचस्पी के साथ कह पाऊं।
मैं उसकी नज्मों की तारीखी पसमंजर में देखने की कोशिश कर रहा था मैंने देखा कि उन नज्मों की बिना पर हमारी उस जमाने की पूरी मुआशरती तारीख मुरतब की जा सकती है। इस कलाम को उस अहद के सियासी और समाजी पसमंजर से हटकर समझना दुश्वार है, और इस दुश्वारी ने एक नए किरदार की तशकील की। और मदारी के मुकालमे मेरे हाथ आए।
हमारी अदबी तारीखों में या तो मुल्क के सियासी और समाजी हालात सिरे से मिलते ही नहीं या अगर मिलते हैं तो बराए नाम। और हमारी सियासी तारीखों में अदबी और मुआशरती हालात का पता नहीं चलता।हालांकि इन दोनों को एक-दूसरे से अलग करके देखना गलत और गुमराह कुन है। चुनांचे मुझे दोनों किस्म की किताबों को सामने रखकर और कागज पर तारीखें जोड़-जोड़ हिसाब लगाना पड़ा कि हमारी तारीखे-अदब और सियासी तारीख में क्या रब्त है। इस जद्दोजेहद का नतीजा बहुत से मुकालमों के इलावा घोड़ों के सौदागर का किरदार है और इसी काविश ने ड्रामे का जमाना मुकर्रर करने में बहुत मदद पहुंचाई।
ड्रामे का जमाना लगभग 1810 ई. है। अगर आम राय के मुताबिक 1735 ई. नजीर की तारीख पैदाइश मान ली जाए तो इस जमाने में नजीर की उम्र कोई 75 वर्ष की होगी, अभी उनकी जिंदगी के 20 साल और बाकी थी। 1830 वफात का साल है। मैंने ड्रामे के लिए ये जमाना कई वजूह की बिना पर मुकर्रर किया।
नजीर ने 'खान आरजू' शाह हातिम, सौदा व 'मीर' से लेकर गालिब तक का जमाना देखा। 'मीर' के साथ उर्दू शाइरी का एक दौर खत् महोता है और 'मीर' का इंतकाल 1810 ई. में हुआ था जबकि गालिब की उम्र चौदह बरस की थी। मैं 'मीर' जैसे गिरां-कद्र शाएर के कलाम को सामने रख कर नजीर के बारे में बात करना चाहता था। और साथ ही ये इशारा भी मंजूर था कि इसी जमाने में उर्दू जबान ने अपना वो महबूब शाएर भी पैदा कर दिया था जो आगे चलकर 'गालिब' कहलाएगा।
ये वो जमाना था कि शख्सी हुकूमत की बुनियादें हिल चुकी थीं, मुगलिया सल्तनत का खात्मा हो गया था, अकबरे-सानी बराए-नाम दिल्ली के तख्त पर बैठे थे मुल्क में अंग्रेजों का इफ्तेदार बढ़ रहा था और चारों तरफ लूट-खसोट मची हुई थी। अन्दरूनी और बैरूनी हमलों से दिल्ली और आगरे पर बार-बार तबाही आ चुकी थी और शोराए-उर्दू दिल्ली छोड़कर भाग रहे थे और लखनऊ बहुत तेजी से अदबी मरकज बन चला था। लखनऊ नवाब सआदत अली खाँ का दौर-दौरा था और उर्दू शाइरी का इन्हेतात, जो उस दौर से वाबिस्ता है, शुरू हो गया था। साथ ही साथ उर्दू नस्न पनप रही थी और कलकत्ता में अंग्रेजों के कायम किए हुए फोर्ट विलियम कॉलेज में तर्जुमा व तसनीफो-तालीफ का काम बढ़ रहा था।
यानी उस दौरे-इन्हेतात में भी हमारे समाजी निजाम में वो अनासिर मौजूद थे जो आगे चलकर तरक्कीपसंद बनने की सलाहियत रखते थे। पुराना समाजी ढांचा टूट-फूट रहा था। चारों तरफ अफरातफरी और सियासी बेचैनी फैल रही थी। लोगों की इफ्तेसादी हालत दिन-ब-दिन गिर रही थी और इन हालात का रद्देअमल 47 साल बाद 1857 ई. की जंगे-आजादी की शक्ल इख्तेयार करने वाला था जिसका असर गालिब की शाइरी ने कबूल किया।
इन सियासी व समाजी हालात की रौशनी में नजीर के कलाम को देखा जाए तो उसकी सच्चाई और गहराई का सही अंदाजा होता है। चुनांचे मुझे उन्नीसवीं सदी की इब्तेदा का जमाना ड्रामे के लिए सबसे ज्यादा मानी खेज और मुनासिब मालूम हुआ, उसकी नज्मों का तारीखी ताया करने के लिए ये दौर बहुत मौजूद था।
मैं ड्रामे की बुनियाद नजीर की जिंदगी को नहीं बल्कि उसके कलाम को बनाना चाहता था। ड्रामा लिखनेके दौरान ये बात भी जेहन में आई कि नजीर को स्टेज पर न लाना ही बेहतर होगा। इससे न सिर्फ मेरे मौजूद के बहुत से मरहले तै हो गए बल्कि मेरी तकनीक पर भी इसका अच्छा असर पड़ा और तकनीक और मौजूद का गुथाव बढ़ गया।
नजीर के हाँ जो तसौबुफ है, मैं उसे ड्रामे का मौजूद नहीं बनाना चाहता था, बल्कि उसके बेशतर अशआर में जो जोश, उमंग और इंसानियत दोस्ती पाई जाती है, मैं चाहता था कि यही ड्रामे की रूहे-रवां बन जाए। चुनांचे अगर मैं 75 वर्ष बूढ़े नजीर को स्टेज पर ले आता तो अपनी बातसफाई से न कह पाता। उसका अशर बराहे रास्त मेरे मौजूद पर पड़ता।
फिर ये कि मैं नजीर को अमर देखता चाहता था। क्यूंकि ये हकीकत है कि उसका कलाम जिंदा-जावेद है। उसकी शख्सियत के अफसानवी पहलू को भी बरकरार रखना चाहता था। चुनांचे नजीर को सामने न लाकर ही मैं उसे तारीखे-अदब के ड्रामे का सबसे बड़ा हीरो साबित कर सकता था। किसी अदाकार के लिए बहुत मुश्किल था कि उस हीरो को अपनी तमाम अजमत के साथ बऐनेही स्टेज पर पेश कर दे।
एक मरहला ये पेश आया कि अगर नजीर सामने नहीं आया तो फिर क्यूं कर स्टेज पर उसकी मौजूदगी की फिजा और देखने वालों के दिलों में उसकी शख्सियत का एहसास पैदा किया जा सकता है। इस गुत्थी को सुलझाने में मुझे बहुत सी नई-नई बातें सूझीं उनमें से एक नजीर की नवासी का किरदार है। जिसका ख्याल मुझे इस बात से आया कि अब्दुलगफूर शहबाज ने नजीर के अक्सर हालाते-जिंदगी उनकी नवासी विलायती बेगम से मालूम किए थे।
इसी तरह मैंने पहले सोचा था कि मीर को स्टेज पर पेश करूं मगर ये इरादा भी तर्क कर दिया। अलबत्ता अलामती किरदारों से काम लिया, मसलन तजकिरानवीस न सिर्फ उस जमाने और उसके बाद के तजकिरा नवीसों की नुमाइंदगी करता है बल्कि उसके किरदार में मीर की शख्सियत की भी झलक मिलती है। इसे अबुलकासिम मीर कुदरतुल्ला, शेफ्ता, मीर की शख्सियतों का इम्तिजाज समझिए।
रवायती शाइरी के इन्हेतात की तसवीर शाएरनुमा आदमी के किरदार में और मुत्वस्सित तबके की मुतजाद जेहनियत का नक्शा उसके हमजोली के किरदार में पेश करने का फैसला किया। खोमचेवालों, कुम्हार, पतंगफरोश वगैरह के किरदार मुझे बड़ी आसानी से नजीर की नज्मों में से मिल गए, उन नज्मों की ड्रामानिगारी मेरे काम आई, यहां तक कि पतंगफरोश और मदारी के अक्सर मुकालमे भी मुझे नजीर के अशआर ही से मिल गए।
एक माह के मुताले के बाद एक हफ्ते के अंदर मैंने ड्रामा लिखा और फिर जामिया मिल्लिया वालों ने मेरे साथ मिलकर एक ही हफ्ते में ड्रामा तैयार भी किया। काम करने वालों में जामिया मिल्लिया के असातेजा, तोलबा, और बच्चों के इलावा कुछ दिल्ली के लोग और दिल्ली के आस-पास के देहातों के मर्द और औरतें भी शामिल थीं, तुगलकाबाद, बदरपुर और ओखला गांव की मंडली भी शरीक थी, ओखले का एक गदहा और मेंढ़ा भी। सब मिलाकर कोई 75 आदमी बयक वक्त स्टेज पर आए। उनकी रात-दिन की जां फिशानी का नतीजा था कि हाजरीन में से हर तबके के आदमी ने बड़ी गर्मजोशी से उनका इस्तेकबाल किया और अक्सर लोगों ने ये ख्वाहिश जाहिर की कि इस शहर में भी दिखाया जाए। चुनांचे ड्रामा जामिया ड्रामेटिक सोसाइटी की तरफ से नई दिल्ली में हो रहा है।

खास तौर पर बेगम कुदसिया जैदी, बेगम अनीस किदवई, मिसेज एलिजाबेथ गाबा और प्रो. मो. मुजीब की सरपरस्ती ने ड्रामा करने वालों के हौसले बहुत बढ़ाए, और उन्हीं की काविशों का नतीजा है कि 19, 20, 24 और 25 अप्रैल को ड्रामा शहर में दिखाया जा रहा है। पचास-साठ आदमियों की कास्ट इन दिनों उसी की तैयारी में लगी हुई है। और उनमें से हर शख्स के दिल में यही एक ख्याल है कि-
हवस है अब तो यही नक्दे-दिल तलक दीजे
शराबे-इश्ंक को खूबाँ में बैठकर पीजे
भरा है दिल में बहुत शौंक आह क्या कीजे
नाीर आज भी चल कर बुतों से मिल लीजे
फिर इशत्यांक का आलम रहे न रहे।
Copyright © 2013-14 www.misgan.org. All Rights Reserved.