इस तगाफुल का भी जवाब नहीं
सीमा गुप्ता
  
इस तगाफुल का भी जवाब नहीं
बेवफाई का कुछ हिसाब नहीं

उसको अब मै भी ख़त नहीं लिखती
भेजता वो भी अब गुलाब नहीं .

ग़म की आंधी तो खैर आंधी है
ज़ख्मे दिल को हवा की ताब नहीं .

एक ज़रा जायेके में कडवा है
वरना सच का कोई जवाब नहीं

मुद्दतें हो गईं पलक झपके
रतजगों का कोई हिसाब नहीं

फलसफा है किताब -ए -दिल सीमा
तिफ्ल -ए -मकताब की ये किताब नहीं

Copyright © 2011-12 www.misgan.org. All Rights Reserved.